व्याकरण किसे कहते हैं कितने भेद होते हैं?

हिंदी व्याकरण सभी कक्षाओ और प्रतियोगिता परीक्षाओ में अत्याधिक उपयोगी है हिंदी व्याकरण के बिना हम किसी भी चीज़ को व्यक्त नहीं कर सकते है आज के इस पोस्ट में हम जान ने वाले है की व्याकरण किसे कहते हैं इसके कितने भेद होते हैं?

व्याकरण किसे कहते हैं इसके कितने भेद होते हैं?

व्याकरण किसे कहते है ?

व्याकरण उसे कहते है : जिन नियमो के अंतर्गत किसी भाषा को शुद्ध बोलना, लिखना एव ठीक प्रकार से समझना आता उन्हें ही व्याकरण कहते है अथवा

वह विद्या जिसके द्वारा हमें किसी भाषा को शुद्ध बोलना, लिखना तथा समझना आता है उसे व्याकरण कहते है उदाहरण : “नीलकंठ स्कूल जाती है तथा उसी स्कुल में निधी भी पढता है

ऊपर बताया गया वाक्य भाषा के हिस्साब से गलत है क्युकी इस वाक्य में नीलकंठ पुल्लिंग है इसलिए यह वाक्य ऐसा होना चाहिये था की “नीलकंठ स्कुल जाता है तथा उसी स्कुल में निधी पढ़ती है

क्युकी निधी स्त्रीलिंग है यह सब जानकारी हमे सिर्फ व्याकरण के पढने के बाद ही समज आते है की कहा हमे किस वाक्य का और किस शब्द का इस्तमाल करना चाहिए

व्याकरण के कितने भेद (अंग ) है?

किसी भाषा को सिखने के लिए हमें वर्ण ,शब्द , पद और वाक्य की आवश्कता पड़ती है , अंत: हम कह सकते है की व्याकरण के चार अंग या भेद होते है

  1. वर्ण ( अक्षर ) : भाषा के सबसे छोटे शब्द ( ध्वनि ) को वर्ण कहते है | इनके टुकड़े नहीं किये जा सकते है जैसे की – क , ख , अ , आ , ब
  2. शब्द : वर्णों के उस समूह को शब्द कहते है जिनका कोई अर्थ होता है | जैसे की – मोहन , खाना , पीना , वृक्ष , राजधानी इत्यादी
  3. पद : वचन, लिंग , विभक्ति , काल इत्यादी की योग्यता रखने वाले शब्दों को पद कहते है उदाहरण : राकेश पुस्तक पढता है
  4. वाक्य : शब्दों के समूह को वाक्य कहते है जिसका कोई अर्थ होता है जैसे की- नीलकंठ खाना खा लिया |

भाषा और व्याकरण में क्या संबंध है?

भाषा और व्याकरण का संबंध बहुत गहरा होता है व्याकरण के ज्ञान से ही हम भाषा के शुद्ध, अशुद्ध रूप को जान पाते है

जिस विद्या से भाषा के शुद्ध रूप और प्रयोग का ज्ञान होता है उसे व्याकरण कहते है जैसे : मेरे को बाजार जाना है |

व्याकरण किसे कहते हैं इसके कितने भेद होते हैं?

दोस्तों ऊपर दिखाए गए चित्र में लड़की अलग वाक्य बोल रही है इस से पता चलता है की इसे व्याकरण का ज्ञान नहीं है यदि इसे व्याकरण ज्ञान होता तो ये वाक्य ऊपर बताये गए तरीके से नहीं बोलती

उसे वह वाक्य इस तरह बोलना चाहिए था “मुझे बाजार जाना है” तो आप समज ही गए होंगे की भाषा के शुद्धता या अशुद्ता का पता व्याकरण से पता चलता है

व्याकरण पढ़ने से क्या लाभ है?

व्याकरण पढने के बहुत सारे लाभ है, अगर आप एक विद्यार्थी या स्पर्धा परीक्षा की तयारी कर रहे है तो आपके लिए व्याकरण बहुत ही मायने रखता है व्याकरण के मदत से आप अपनी मन के बात को सही शब्दों में किसी व्यक्ति तक पंहुचा सकेंगे

विद्यार्थियों के नजरिये से व्याकरण उनके परीक्षाओ में अच्छे गुण लाने के लिए लाभकारी हैव्याकरण के बिना भाषा अधूरी है बिना व्याकरण के अगर आप भाषा का इस्तमाल करेंगे तो ऊपर बताये गए उदहारण की तरह बात करेंगे ( व्याकरण सिखने के लिए एप्प )

निष्कर्ष

दोस्तों मुझे उम्मीद है की इस आर्टिकल में व्याकरण किसे कहते हैं इसके कितने भेद होते हैं इसके बारे पूरी जानकारी आपको मिल गयी होगी | अगर आपको व्याकरण के बारे में कोई भी शंका हो तो आप निचे कमेंट में जरुर बताये | अगर ये पोस्ट अच्छी लगी हो तो अपने दोस्तों के साथ जरुर शेयर करे धन्यवाद !

Nilkanth sahu

मै एक कॉमर्स का student हु मुझे टेक्नोलॉजी और इन्टरनेट के बारे में नयी बाते जानना और जानकारी शेयर करना पसंद है मै Chhattisgarh का रहने वाला हु अगर आपको ये ब्लॉग अच्छी लगे तो आप इसे अपने फ्रेंड्स के साथ शेयर करे धन्यवाद !

This Post Has One Comment

Leave a Reply